मुख्य सन्देश


हजारों मील की यात्रा एक कदम से ही शुरु होती है !

.

मुख्य सन्देश हैः

  • खुब शारीरिक मेहनत करें।
  • पैदल चलें।
  • एइरोबिक व्यायाम।
  • योगासन करें।
  • बैडमिन्टन खेलें।
  • नियमित खूब साईकिल चलावें।
  • तैराकी करें।
  • आस पास जमीन हो तो कुदाल चलावें।

तथाकथित आधुनिक तामसिक भोज्य पदार्थो को बचपन से ही न खाएँ, जैसे -

मिठाई , फास्ट फूड , चाट , कोल्ड ड्रिंक , चाकलेट , टॉफी , डब्बे में बन्द सामग्री।



जो मधुमेह के रोगी अपनी बीमारी का नियंत्रण ठीक से करते हैं वो 100 साल जी सकते हैं।

 

क्या कह रही है यू. के. पी. डी. स्टडी

शुरु हुई - 1977 में

5102 रोगियों को अध्ययन में रखा गया। निष्कर्ष मिला 20 साल बाद 1997 में:

यदि मधुमेह नियन्त्रित रखा जाए तो

दुष्परिणामों से बच सकते है 12% तक।

फोटोकोवेगुलेशन से बच सकते है 29% तक।

माइक्रोवासकुलर दुष्परिणामों से बच सकते है 37% तक।

अन्धेपन से बच सकते है 24% तक।

स्ट्रोक से बच सकते है 44% तक।

हॄदयाघात से बच सकते है 16% तक।

 

मधुमेह में स्वास्थ्य शिक्षा से ज्यादा जरुरी कुछ नहीं है, सही जानकारी से आप अपने को सालों साल स्वस्थ रख सकते है।

चालीस की उम्रके बाद बिना किसी लक्षण के भी ब्लड सुगर की सालाना अवश्य जॉच कराएँ

आज से ही नियमतः तेज चलने का प्रण कीजिए