नई चिकित्सा'आइजलेट सेल्स प्रत्यारोपण'



क्या नई चिकित्सा 'आइजलेट सेल्स प्रत्यारोपण' टाइप-1 मधुमेह का पुरा क्योर है?

भारत में करीब 2% मधुमेह टाइप-1 प्रकार का होता है। इसमें ऑटोइम्यूनिटी के कारण आइजलेट सेल्स पूर्णतः नष्ट हो जाते हैं। आइजलेट सेल्स पैनक्रीयाज ग्रन्थि में पाये जाते हैं और इन्हीं के द्वारा इन्सुलीन शरीर में स्त्रावित किया जाता है। इस तरह बीमारी मुख्यतः बीटा सेल्स की बरबादी के कारण से होता है। मरीजों को बिना इन्सुलीन की सूई दिए दूसरा उपाय नहीं रहता।

जून 2000 में यूनिर्वसिटी ऑफ अलबर्टा से एक नई चिकित्सा का समाचार आया । इसे अभूतपूर्व तकनीक मानी गई । डॉ रॉजेटो रे की टीम ने वह कमाल किया जिसकी किसी को उम्मीद न थी । उन्होंने डोनर पैनक्रियाज से आइजलेट सेल्स निकाला और इसे लीवर में पोर्टल वेन के रास्ते बिना किसी सर्जरी के पहुँचा दिया । ये सेल्स लीवर में जाकर इतना इन्सुलीन बनाने लगे कि मधुमेह की अवस्था ही खत्म हो गयी । मरीज उन्मुक्त हो नाचने लगे । मगर इस तकनीक में आईजलेट सेल्स का शरीर रिजेक्शन न कर दे उसके लिए तीन मँहगी दवाइयाँ लगातार खानी पड़ती हैं । यानी दवाइयों से छुटकारा नहीं । समस्या यह आ रही है कि आईजलेट सेल्स कहां से लाया जाये । डोनर का मिलना बहुत कठिन है । सच्चाई यही है कि ऐसी चिकित्सा अभी प्रयोगात्मक दौर में है और पूर्ण क्योर बीमारी का अभी भी बहुत दूर दिख रहा है ।


लिराग्लुटाईड अब डायबिटीज के ईलाज में करेगा नया परिवर्तन

लिराग्लुटाईड जी.एल .पी.-1 पेपटाईड ग्रुप की पहली दवा है जिसे अमेरिका की एफ.डी.ए संस्था ने अनुमोदित किया है।यह दवा इंजेक्शन के द्वारा ही दिया जा सकता है।इस दवा को इसके गुणों के डायबिटीज के लिए एक नया माईलस्टोन समझा जा रहा है।नोवो-नोरडिस्क कम्पनी द्वारा यह दवा डेवेलप किया गया है।य़ह दवा एफ.डी.ए. द्वारा खानपान एंव मेटफोरमिन द्वारा बीमारी का नियन्त्रण न हो तो ईलाज के लिए अनुमोदित कर दिया गया है।इससे ब्लड सुगर का नियन्त्रण बेहतरीन ढंग से होता है।सबसे बङी बात यह है कि इसके प्रयोग से शरीर का वजन खूब घटता है।यह ब्लड-प्रेशर को भी घटाने में सक्षम है।इसके प्रयोग से शुरुवाती दौर में उल्टी हो सकती है।भारत में इसके शीघ्र उपलब्ध होने की संभावना है।