मधुमेह और भारत

70 के दशक में मधुमेह होने कि दर भारत के शहरी इलाकों में मात्र 2.1 प्रतिशत थी अब 12 से 18 प्रतिशत तक जा पहुँची है। सन् 2025 तक भारत में करीब 7 करोड़ मधुमेह के रोगी हो जाएँगे, यह संख्या अभी 3.5 करोड़ है। ...


अधिक पढ़ें..

मधुमेह और गलत धारणाएँ

यह गलत धारणा है। चिकित्सा के दौरान कभी-कभी खाने वाली दवाईयाँ कार्य नहीं करती हैं और ब्लड सुगर बढ़ा रहता है। अधिकाशं दवाईयाँ पैनक्रियाज के बीटा सेल्स को इन्सुलीन स्त्रावित करने का आदेश ...


अधिक पढ़ें..

गर्भावस्था में मधुमेह

गर्भावस्था के दौरान मधुमेह की अवस्था को नियंत्रित करना अत्यंत आवश्यक है। अच्छा तो यह होता है कि जो दंपति बच्चे की इच्छा कर रहे हों शुरुवाती दौर में ही अपना ब्लड सुगर जाँच करा लें...


अधिक पढ़ें..

विश्व मधुमेह दिवस

14 नवम्बर चाटर्रा, बेन्टिंग का जन्म दिन है जिन्होंने बेन्ट के साथ मिलकर सन 1921 में इन्सुलिन की खोज की थी। इतिहास की इस महान खोज को अक्षुण रखने के लिए आईडीएफ द्वारा 14 नवम्बर को विश्व डायबिटीज दिवस...


अधिक पढ़ें..

भोजन और डायबिटीज

डायबिटीज यानि मधुमेह के रोगियों की भोजन तालिका बनाने का यह मतलब नहीं है कि रोज एक ही तरह का खाना खाकर आप अपना जीवन नीरस और बेजान कर लें। थोड़ा सा हेर फेर करके एवं कैलोरी का संतुलन करके आप विभिन्न प्रकार..


अधिक पढ़ें..
12345

जरूर पढ़ें                                      

मधुमेह और स्वास्थ्य शिक्षा

मधुमेह और स्वास्थ्य शिक्षा

अब भारत में मधुमेह रोगियों की संख्या करीब 35 मिलियन होने जा रही है। मधुमेह की भयानकता इस तथ्य से जाहिर होती है कि ह्र्दय रोग, उच्च रक्त चाप, और स्ट्रोक का तो वह जनक है ही, अनियंत्रित ...

मधुमेह और गर्भावस्था

मधुमेह और गर्भावस्था

गर्भावस्था के दौरान मधुमेह की अवस्था को नियंत्रित करना अत्यंत आवश्यक है। अच्छा तो यह होता है कि जो दंपति बच्चे की इच्छा कर रहे हों शुरुवाती दौर में ही अपना ब्लड सुगर जाँच करा लें। गर्भावस्था के दौरान मधुमेह की अवस्था माँ और बच्चे, दोनों के लिए कई मायनों में खतरनाक है।...

हाइपोग्लायसिमिया

हाइपोग्लाययसिमिया इस तरह से हाइपोग्लायसिमियारक्त में अत्यधिक कम सुगर होने को कहते हैं। यह एक ऐसी स्थिति है जिसका अनुभव कभी-ना-कभी हर डायबिटीज के मरीज को होता ही है। यह एक जानलेवा इमर्जेंसी है मगर मरीज थोड़ी सी जानकरी रखकर इससे बच सकते है।..

इन्सुलीन - तकनीक का कमाल

इन्सुलीन - तकनीक का कमाल

मधुमेह के रोगियों को यदि इन्सुलीन की सूई लेने की सलाह दी जाती है तो अकसर उन्हे पसीना आने लगता है मानों मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा हो।मगर अब इन्सुलीन लेना इतना सरल हो गया है,मानों बच्चों का खेल हो।न तो कम्पाउन्डर के आने की जरुरत,न तो सूई के कारण दर्द होने की कसमसाहट -बस कलम-नुमे...

मधुमेह और बच्चे

मधुमेह और बच्चे

टाइप-1 - मुख्यतः बच्चों में पाया जाता है इस बीमारी में पैनक्रियाज ग्रन्थि के बीटा सेल्स का पूणॆतः नाश हो जाता है जिसके कारण शरीर में इन्सुलीन की पूणॆतः कमी हो जाती है। ऐसा किसी आटोइम्युनिटी या अन्य कारणों से होता है।...